Saturday, January 16, 2016

कितनी अजीब है मेरे अन्दर शायरी

#कितनी अजीब है मेरे अन्दर की तन्हाई भी,
#हजारो अपने है मगर याद सिर्फ वो ही आता है...