Sunday, December 25, 2016

Ulfat ka aksar yahi dastur hindi shayari image



उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है,
जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है....!!!
दिल टूटकर बिखरता है इस कदर,
जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है....!!!