Monday, January 9, 2017

Ek ajnabi se mujhe itna payr shayari


एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है,
इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है,
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद,
फिर भी हर मोड़ पर उसी का इन्तज़ार क्यों है...!!!

Why do I have so much love to a stranger,
Why is the desire to deny the obligation,
Probably not get it in my destiny,
But why wait for him at every turn ... !!!