Monday, January 9, 2017

Latest hindi shayari humein kaid kar liya


हमें कैद कर लिया तेरी मोहब्बत ने,
हद है तेरी इस ज़ालिम मोहब्बत की,
कोई अर्जी नहीं लगाता ज़माने में,
हम बे कसूर के लिए जमानत की...!!!

He imprisoned us your love,
The extent of your love for the unjust,
Does not have any application in time,
We blame Bay for bail ... !!!