Wednesday, August 16, 2017

कोई खामोश है इतना shayari



कोई खामोश है इतना, बहाने भूल आया हूँ;
किसी की इक तरनुम में, तराने भूल आया हूँ;
मेरी अब राह मत तकना कभी ए आसमां वालो;
मैं इक चिड़िया की आँखों में, उड़ाने भूल आया हूँ...!!!

No comments:

Post a Comment