Attitude Shayari in Hindi 2017

                                     

एट्टीट्यूड तो हम मरने के बाद भी
दिखाएंगे....!!!....!!!....!!!
दुनिया पैदल चलेगी और हम
कंधो पर....!!!



तुम लौट के आने का तकल्लुफ़ मत करना....!!!
हम एक मोहब्बत को दोबारा नहीं करते....!!!



आग लगाना मेरी फितरत में नही है....!!!
मेरी सादगी से लोग जलें तो मेरा क्या कसूर....!!!


लाख तलवारे बढ़ी आती हों गर्दन की तरफ....!!!
सर झुकाना नहीं आता तो झुकाए कैसे....!!!


कहते है हर बात जुबां से हम इशारा नहीं करते....!!!
आसमां पर चलने वाले जमीं से गुज़ारा नहीं करते....!!!
हर हालात बदलने की हिम्मत है हम में....!!!
वक़्त का हर फैसला हम गँवारा नहीं करते....!!!

सूरज....!!! सितारे....!!! चाँद मेरे साथ में रहे....!!!
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहे....!!!
शाखों से जो टूट जाये वो पत्ते नही है हम....!!!
आंधी से कोई कह दे कि औकात में रहे....!!!




मार ही डाले जो बे मौत....!!! ये दुनिया वाले....!!!
हम जो जिन्दा हैं तो जीने का हुनर रखते हैं....!!!



औकात की बात मत कर पगली....!!!....!!!....!!!
हम जिस गली में पैर रखते हैं....!!!
वहाँ की लड़कियां अक्सर कहती हैं....!!!
बहारो फूल बरसाओ मेरा महबूब आया है....!!!



दिखावे की मोहब्बत तो जमाने को हैं हमसे पर....!!!
ये दिल तो वहाँ बिकेगा जहाँ ज़ज्बातो की कदर होगी....!!!


तेरे गुरूर को देखकर तेरी तमन्ना ही छोड़ दी हमने....!!!
जरा हम भी तो देखें कौन चाहता है तुम्हें हमारी तरह....!!!

दुशमनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी....!!!
मैं हाथ नहीं उठाता....!!! नज़रों से गिरा देता हूँ....!!!



हमारी हैसियत का अंदाज़ा....!!!
तुम ये जान के लगा लो....!!!
हम कभी उनके नही होते....!!!
जो हर किसी के हो जाए....!!!


बेवक़्त....!!! बेवजह....!!! बेहिसाब मुस्कुरा देता हूँ....!!!
आधे दुश्मनो को तो यूँ ही हरा देता हूँ....!!!



मिला हूँ ख़ाक में ऊँची मगर औकात रखी है....!!!
तुम्हारी बात थी आखिर तुम्हारी बात रखी है....!!!
भले ही पेट की खातिर कहीं दिन बेच आया हूँ....!!!
तुम्हारी याद की खातिर भी पूरी रात रखी है....!!!



हमारी शख्सियत का अंदाज़ा....!!!
तुम ये जान के लगा लो....!!!
हम कभी उनके नही होते....!!!
जो हर किसी के हो जाए....!!!


भूलकर हमें अगर तुम रहते हो सलामत....!!!
तो भूलके तुमको संभालना हमें भी आता है....!!!
मेरी फ़ितरत में ये आदत नहीं है वरना....!!!
तेरी तरह बदल जाना मुझे भी आता है....!!!



ठोकर ना लगा मुझे पत्थर नहीं हूँ मैं....!!!
हैरत से ना देख कोई मंज़र नहीं हूँ मैं....!!!
तेरी नज़र में मेरी कदर कुछ भी नही....!!!
मगर उनसे पूछ जिन्हें हासिल नही हूँ मैं....!!!



जो दिल को अच्छा लगता है
उसी को दोस्त कहता हूँ....!!!
मुनाफ़ा देखकर रिश्तों की
सियासत मैं नहीं करता....!!!



ना तो बिका हूँ ना ही कभी बिक पाऊंगा....!!!
ये ना समझना मै भी हज़ारो जैसा हूँ....!!!



खुशबू बनकर गुलों से उड़ा करते हैं....!!!
धुआं बनकर पर्वतों से उड़ा करते हैं....!!!
हमें क्या रोकेंगे ये ज़माने वाले....!!!
हम परों से नहीं हौसलों से उड़ा करते हैं....!!!