Cute Romantic and sad shayari for facebook



क्यो किसी से इतना प्यार हो जाता है ,
एक पल का इंतज़ार भी दुश्वार हो जाता है ...!!!
लगने लगते है अपने भी प्यारे ,
और एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है…!!!

बहुत खुबसूरत है आखे तुम्हारी ,
इन्हें बना दो किस्मत हमारी ...!!!
हमें नहीं चहिये ज़माने की खुसिया ,
अगर मिल जाये मोहब्बत तुम्हारी....!!!

फुलो सा खुबसुरत चेहरा हैं ,
आपका हर दिल दिवाना है ....!!!
आपका लोग कहते है चाँद का टुकडा है ,
आप लेकिन हम कहते है चाँद टुकडा है आपका,,,,!!


हर छलकती बोतल शराब नहीं होती ,
हर खिलती हुई कलि गुलाब नहीं होती ....!!!
चाहते तो ताजमहल हम भी बनवा देते ,
लेकिन हर एक लड़की मुमताज नहीं होती....!!!

मोह्ब्बत किसी ऐसे सख्स की तलाश नही करती...!!!
जिसके साथ रहा जाये मोह्ब्बत,
तो ऐसे सख्स की तलाश करती हे....!!!
जिसके बगेर रहा न जाये...!!!

प्यार की कोई हद समझना मेरे बस की बात नहीं,
दिल की बातों को न करना मेरे बस की बात नहीं...!!!
कुछ तो बात है तुझमें तब तो दिल ये तुमपे मरता है,
वरना यूँ ही जान गँवाना मेरे बस की बात नहीं...!!!

सुबह का हर पल ज़िंदगी दे आपको,
दिन का हर लम्हा खुशी दे आपको....!!!
जहा गम की हवा छू कर भी न गुज़रे,
खुदा वो जन्नत से ज़मीन दे आपको.....!!!

रिश्तों की यह दुनिया है निराली,
सब रिश्तों से प्यारी है दोस्ती तुम्हारी....!!!
मंज़ूर है आँसू भी आखो में हमारी,
अगर आजाये मुस्कान होंठ पे तुम्हारी....!!!

छोटे से दिल में गम बहुत है,
जिन्दगी में मिले जख्म बहुत हैं...!!!
मार ही डालती कब की ये दुनियाँ हमें,
कम्बखत दोस्तों की दुआओं में दम बहुत है....!!!

नफरत को हम प्यार देते है,
प्यार पे खुशियाँ वार देते है....!!!
बहुत सोच समझकर हमसे कोई वादा करना,
" ऐ दोस्त " हम वादे पर जिदंगी गुजार देते है.....!!!

इश्क ओर दोस्ती मेरे दो जहान है,
इश्क मेरी रुह, तो दोस्ती मेरा ईमान है...!!!
इश्क पर तो फिदा करदु अपनी पुरी जिंदगी,
पर दोस्ती पर, मेरा इश्क भी कुर्बान है...!!!

सुबह होते ही जब दुनिया आबाद होती है,
आँख खुलते ही आपकी याद आती है....!!!
खुशियों के फूल हो आपके आँचल में,
ये मेरे होंठों पे पहली फ़रियाद होती है....!!!

बेगाने होते लोग देखे, 
अजनबी होता शहर देखा....!!!
हर इंसान को यहाँ, 
मैंने खुद से हीं बेखबर देखा....!!!

रोते हुए नयन देखे, 
मुस्कुराता हुआ अधर देखा...!!!
गैरों के हाथों में मरहम, 
अपनों के हाथों में खंजर देखा...!!!

मत पूछ इस जिंदगी में, 
इन आँखों ने क्या मंजर देखा...!!!
मैंने हर इंसान को यहाँ, 
बस खुद से हीं बेखबर देखा...!!!


अब मौत से कह दो कि नाराज़गी खत्म कर ले, 
वो बदल गया है जिसके लिए हम ज़िंदा थे​...!!