Heart Special Hindi 2 line Shayari






  1. मेरे ख्वाबों तक ने जगाया है मुझे हर बार यहाँ ,
  2. अब मेरे सोने की कोई सूरत दिखाई नहीं देती.........$$$$$

  3. हर बार सोचा है तुझे जब भी तुझे भुलाया है ,
  4. यादों के पार करे ऐसी कश्ती दिखाई नहीं देती .........$$$$$

  5. आँखों में तेरी सूरत मैं आज भी लिए बैठा हूँ ,
  6. कैसे कह दूँ कि अब तू मुझे दिखाई नहीं देती.........$$$$$

  7. मैं तेरे इश्क़ में गिरफ़्तार था और रहूँगा हमेशा ,
  8. बस तेरी हामी की एक आवाज़ सुनाई नहीं देती .........$$$$$

  9. *****************************

  10. Mere Khwabon tak ne jagaya hai mujhe har baar yahan ,
  11. Ab mere sone ki koi surat dikhaai nahin deti.........$$$$$

  12. Har baar socha hai tujhe jab bhi tujhe bhoolaya hai ,
  13. Yaadon ke paar kare aisi kashti dikhaai nahin deti.........$$$$$

  14. Aankho mein teri soorat main aaj bhi liye baitha hun ,
  15. Kaise kah dun ki ab tu mujhe dikhaai nahin deti.........$$$$$

  16. Main tere ishq mein giraftaar tha aur rahunga hamesha ,
  17. Bas teri haami ki ek awaaz sunaai nahi deti.........$$$$$

  18. *****************************

  19. वफ़ा को हमने तुमसे निभाने की क़सम खायी है ,
  20. ख़ुद को तुम से ना मिलाने की क़सम खायी है ,
  21. ग़म चाहे कितने भी आयें अब इस ज़िन्दगी में ,
  22. याद तुम्हे करके मुस्कुराने की क़सम खायी है.........$$$$$

  23. *****************************

  24. Vafa ko hamne tumse nibhane ki kasam khayi hai,
  25. Khud ko tum se na milaane ki kasam khayi hai,
  26. Gum chaahe kitani bhi ab aayen is zindagi mein,
  27. Yaad tumhe karke muskuraane ki kasam khayi hai.........$$$$$

  28. *****************************

  29. कैसे कह दूँ शिकायत है दुनिया से मुझे कोई ,
  30. हमेशा मेरी परछाईं ने निभाया है साथ मेरा.........$$$$$

  31. Kaise kah dun shikaayat hai duniya se mujhe koi,
  32. Hamesha meri Parchhaain ne nibhaya hai saath mera.........$$$$$

  33. *****************************

  34. जब से परछाइयों ने मुझको घेरा है ,
  35. रौशनी मुझसे नज़रें चुराने लगी है.........$$$$$

  36. Jab se parchhaiyon ne mujhko ghera hai ,
  37. Roshni mujhase nazaren churaane lagi hai.........$$$$$

  38. *****************************

  39. उनकी परछाईं को आँखों में बसाया है मैंने ,
  40. फिर क्यूँ मैं नींद के आने का इंतज़ार करूँ ?

  41. Unki Parchhaain ko aankhon mein basaya hai maine ,
  42. Phir kyun main neend ke aane ka intezaar karun.........$$$$$

  43. *****************************

  44. परछाइयों को सबका , दिखता है सच हमेशा ;
  45. झूठ से किसी के , ना कोई इनका सरोकार है !

  46. Parchhaaiyon ko sabka , dikhta hai sach hamesha ;
  47. Jhooth se kisi ke , na koi inka sarokar hai.........$$$$$

  48. *****************************

  49. दामन में कभी मेरे , ग़र आग़ भी लगी हो ;
  50. परछाईं ने कभी मेरी , दामन नहीं है छोड़ा.........$$$$$

  51. Daaman mein kabhi mere , gar aag bhi lagi ho ;
  52. Parchhaain ne kabhi meri , daman nahin hai chhoda.........$$$$$

  53. *****************************

  54. इन   चिंगारिओं   से   हमारी ,  पहचान  है  पुरानी ;

  55. एहसास-ए-जुर्म  की आग  में  बरसों  जले  हैं  हम.........$$$$$

  56. *****************************

  57. In  Chingaarion   se  hamari , pehchan  hai  puraani  ;

  58. Ehsaas-e-jurm  ki Aag mein , barason jale hain hum.........$$$$$

  59. *****************************

  60. मेरी ही परछाईं , ज़िन्दगी मुझे सिखलाती है,
  61. इशारों में मुझे , वक़्त का हाल समझाती है,
  62. सर पे हाथ हो उजालों का , तो रहती छोटी,
  63. दूर हो रौशनी , तो मुझसे बड़ी हो जाती है.........$$$$$

  64. *****************************

  65. Meri hi parchhaain , zindagi mujhe sikhalaati hai,
  66. Isaaron mein mujhe , waqt ka haal samjhaati hai,
  67. Sar pe haath ho ujaalon ka , to rahti chhoti,
  68. Door ho roshni to , mujhse badi ho jaati hai .........$$$$$

  69. *****************************

  70. वक़्त की गिरफ्त में , सबका सूरते हाल है ;
  71. पर नहीं सीरत पर , इसका ज़ोर बहरहाल है.........$$$$$

  72. *****************************

  73. Waqt ki giraft mein, sabka soorate haal hai ;
  74. Par nahin seerat par , iska zor baharhal hai.........$$$$$

  75. *****************************

  76. मेरा तो वो था ही नहीं , ये रोज़ ही मुझसे कहता है ,
  77. और जिसका वो हो ना सका , उसके ग़म में रहता है.........$$$$$

  78. *****************************

  79. Mera to Wo tha hi nahin , ye roz hi mujhse kahta hai ,
  80. Aur jiska Wo ho na saka , uske gam mein rahta hai.........$$$$$

  81. *****************************

  82. बीता हुआ हर एक लम्हा मुझे पहचानता है ;
  83. गुज़रा कल मुझे अपना एक हिस्सा मानता है ;
  84. बस यूँ ही नहीं मैं गुज़रे वक़्त पे क़ुरबान हूँ ;
  85. एक वही मेरे दिल की सच्चाइयों को जानता है .........$$$$$

  86. *****************************

  87. Beeta hua har ek lamha mujhe pehchanta hai ;
  88. Guzara kal mujhe apna ek hissa manta hai ;
  89. Bas yun hi nahin main guzare waqt pe qurbaan hun ;
  90. Ek wahi mere dil ki sachchaaiyon ko janta hai.........$$$$$

  91. *****************************

  92. नज़रों से मेरी तुम , राज़ छुपाये फिरते हो ;
  93. आईनों से क्यूँ , अंदाज़ छुपाये फिरते हो.........$$$$$

  94. *****************************

  95. Nazaron SE meri tum , raaz chupaaye phirate ho ,
  96. Aaeenon SE kyun , andaaz chupaaye phirate ho .........$$$$$

  97. *****************************

  98. ये मैं नहीं कहता , पर वक़्त का दस्तूर है ;
  99. दो शख्स भी नहीं हैं , एक जैसे इस जहां में !

  100. हर दिन है यूँ बदलता , कुदरत के इशारे पर ;
  101. ग़र बदले नहीं हैं दिल, तो ये इनायत है उसकी.........$$$$$

  102. *****************************

  103. Ye main nahin kahta , par waqt ka dastoor hai ;
  104. Do shaksh bhi nahin hain , ek jaise is jahaan mein.........$$$$$

  105. Har din hai yun badalta , kudarat ke ishaare par ;
  106. Gar badale nahin hain dil , to ye inayat hai uski.........$$$$$

  107. *******************************

  108. मुश्किल इस राह में , मुस्कान नहीं छोड़ूँगा ,
  109. ऊँचाई की चाह में , स्वाभिमान नहीं छोड़ूँगा..........$$$$$

  110. *****************************

  111. वक़्त को अपने बदलना चाहता हूँ ,
  112. ख़ुद ब ख़ुद मैं सम्भलना चाहता हूँ ,
  113. चलूँ तनहा या तेरा इन्तज़ार करूँ ,
  114. कशमक़श से निकलना चाहता हूँ .........$$$$$

  115. *****************************

  116. टूटते तारों को आँखों में बसाया है ,
  117. उनकी यादों को साँसों में छुपाया है ,
  118. कभी समंदर को समेटा था बाहों में ,
  119. आज ख़ुद उसे साहिल पे लुटाया है.........$$$$$

  120. *****************************

  121. ज़िन्दगी एक रात की नींद सी ढलती रही ,
  122. और मदहोश मैं इक ख़्वाब सा बहता रहा .........$$$$$

  123. *****************************

  124. बस आज ये माँगूँ , कि मैं जान पाऊँ ,
  125. ख़ुदा के अहसानों को , मैं मान पाऊँ ,
  126. दिया है उसने बहुत , मैं ये देख सकूँ ,
  127. हर पल में ख़ुशी को, मैं पहचान पाऊँ.........$$$$$

  128. *****************************

  129. चमक की चाह में , हर शख़्स यहाँ , जलता है ज़रूर ,
  130. पर है रौशन वही , जिसे बख़्शे खुदा , दोस्ती का नूर.........$$$$$

  131. *****************************

  132. आज तुम मेरे , आने का , इन्तज़ार करो ,
  133. ज़िद ना करो , प्यार का , इज़हार करो.........$$$$$

  134. *****************************

  135. मिली नज़र जो आपसे , ना दूर हो सके ,
  136. ये बात और है कि ना , मशहूर हो सके.........$$$$$

  137. थी बीमारी आपको , भुलाने की रिश्ते ,
  138. इसीलिये आँखों का हम ना , नूर हो सके ।

  139. मेरी नज़र में आप थीं , पर आप में कोई और,
  140. हम आपकी नज़र का ना , सुरूर हो सके .........$$$$$

  141. आपकी आँखों और , बातों में थी जफ़ा ,
  142. मेरे ख़्वाब फिर भी ना , मजबूर हो सके.........$$$$$

  143. जीते हैं मोड़ ज़िन्दगी के , हमने सब यहाँ ,
  144. पर ना इश्क़ के मैदान के , हुज़ूर हो सके.........$$$$$


  145. *****************************

  146. मिली नज़र जो आपसे , ना दूर हो सके ,
  147. ये बात और है कि , ना मशहूर हो सके.........$$$$$

  148. *****************************

  149. मुसाफ़िर मैं अदना सा , और रास्ते कई हैं ,
  150. हर रास्ते से लिपटे , यहाँ वास्ते कई हैं ,
  151. चलूंं अब किधर मैं , मुश्किल है ये समझना.........$$$$$
  152. पर इन्सान को हमेशा , खुदके ही साथ चलना ,
  153. खो जाऊँ अब अगर , क्यूँ मैं डरता हूँ ,
  154. बस अपने ही वास्ते , क्यूँ मैं मरता हूँ.........$$$$$
  155. है रात बहुत बीती , ये जवाब मुझे चाहिये ,
  156. ख़ुद के लिये चलूँ , या सवाब मुझे चाहिये ,
  157. मुश्किल है ये बात , और आसां भी यही है.........$$$$$
  158. है सबको जो चलाता , वो तो यहीं कहीं है ,
  159. फिर सोच में क्यूँ डूबा , ले रास्ता पुराना ,
  160. चल चुके जो इस रस्ते , बोलें बड़ा सुहाना.........$$$$$
  161. ठाना अब ये मैंने , करना मुझे यही है ,
  162. सब रास्ते हैं मेरे , डरना मुझे नहीं है ,
  163. चलना है मुझे अब , बस एक ख़ुदा के वास्ते ,
  164. कहते हैं ग़ुल खिलेंगे , फिर मेरे हरेक रास्ते.........$$$$$

  165. *****************************

  166. भूल के साया भी तुमको चलना होगा ,
  167. सह के दर्द भी तुमको सम्भलना होगा ,

  168. हों चाँद तारे भी चाहे ख़िलाफ़ तुम्हारे ,
  169. इरादों से तुम्हे वक़्त को बदलना होगा.........$$$$$

  170. *****************************

  171. तेरी साँसों की धड़कन, मुझे ख़ूब सुनाई देती है ,
  172. तेरी सूरत आँखों में , मुझे सबकी दिखाई देती है.........$$$$$

  173. *****************************

  174. मैं उनके सामने ही , यूँ वक़्त में गुज़र गया ;
  175. तो कभी उनकी आँखों में , यूँ ही ठहर गया ;
  176. ना वो बोले ना मैं बोला, ज़िन्दगी चलती रही ;
  177. वो लम्हा पास होकर भी,कहने से मुक़र गया .........$$$$$

  178. *****************************


  179. मैं
  180. उन आँखो की तलाश में हूँ
  181. जिनकी आस ने
  182. मुझको तराशा था .........$$$$$

  183. बरसों निकल गये हैं
  184. वक़्त से आगे कहीं
  185. पर मैं हूँ
  186. कि
  187. वक़्त की ग़र्द में
  188. दबे हुए उस लम्हे को
  189. ढूँढ रहा हूँ
  190. जो उस दिन
  191. उसकी आँखों से निकल
  192. आँसू बनकर बह गया था.........$$$$$

  193. सुना था
  194. उसके गर्म होठों को छूकर
  195. वो आँसू
  196. भाप बनकर
  197. हवा में उड़ा था
  198. और जा मिला था
  199. बादलों में .........$$$$$

  200. उस दिन से
  201. हमेशा
  202. जब कभी
  203. बादल बरसते हैं
  204. मैं
  205. बारिश में भीगता हूँ
  206. और गिरती बूँदों को
  207. हथेलियों में समेटता हूँ
  208. और ढूँढता हूँ
  209. उस आँसू को
  210. जो उस दिन
  211. बादलों में मिला था.........$$$$$
  212. पर
  213. पहचान नहीं पाता हूँ
  214. किसी भी बूँद में
  215. उस आँसू का अस्तित्व.........$$$$$

  216. मैं जानता हूँ
  217. कि
  218. गया वक़्त नहीं लौटता
  219. फिर भी
  220. न जाने क्यूँ
  221. ढूँढता हूँ
  222. हर बारिश में
  223. वो खोया लम्हा
  224. जो बह गया था
  225. उसकी आँखों से
  226. लिये
  227. मेरा अहसास
  228. और
  229. उन आँखो की आस.........$$$$$

  230. *****************************

  231. हम तो तेरी निगाहों में बस बहते रहे ,
  232. ज़ुल्फ़ों का तेरी ज़ुल्म भी हम सहते रहे ,
  233. क़बूल करेगी कभी सामने से या नहीं तू ,
  234. इसलिये दूर ही से अपना तुझे कहते रहे.........$$$$$

  235. *****************************

  236. भँवर में क़ैद पानी की मँझधार हमने देखी है ,
  237. आदमी की ख़ुदाई से वो गुहार हमने देखी है ,
  238. ज़िन्दगी ही ज़िन्दगी से भीख़ माँगे फिर भी ,
  239. आदमी की हिम्मत वो बेशुमार हमने देखी है .........$$$$$

  240. *****************************

  241. हजारों हैं ग़म ज़िन्दगी में ज़माने में ,
  242. क्या क्या सुनायें हम आपको फ़साने में.........$$$$$

  243. *****************************

  244. आँखो पे तेरी काजल का पहरा है ,
  245. होठों पे तेरे गुलाबों का सेहरा है ,
  246. बदन की हिफाज़त में है ख़ुशबू तेरी ,
  247. हुस्न तेरे सामने क्या कभी ठहरा है .........$$$$$

  248. क़दमों से तेरे है सावन की मस्ती ,
  249. नज़रों में तेरी सारी दुनिया की बस्ती ,
  250. तेरे आने से होती महफ़िल में रौनक़ ,
  251. तेरी चाहत में हर ख़्वाब सुनहरा है.........$$$$$

  252. आँखो पे तेरी काजल का पहरा है .........$$$$$

  253. *****************************

  254. बेतकल्लुफ़ रहे रात भर वो आग़ोश में हमारी ,
  255. यूँ ही नहीं हम हुस्न में सराबोर हैं आज !

  256. *****************************

  257. मेरी आँखों की गहराई से मुझे तुम जान लेना ,
  258. मेरे ख़्वाबों की सच्चाई से मुझे पहचान लेना ,
  259. ग़र कभी भूल के भी भूलूँ तुझे मैं ज़िन्दगी में ,
  260. अपने सासों की आहट से बस मेरा नाम लेना .........$$$$$

  261. *****************************

  262. चाहूं कितना भी संभालना , फिर भी ना संभलती है ,
  263. ज़िन्दगी हमेशा बदलती है , हर शाम यूं ही ढलती है.........$$$$$

  264. *****************************

  265. वक़्त की बिसात पर आज मेरा साया है ,

  266. ग़ुबार दिल पे पुरानी बातों का छाया है ,
  267. क्या भूलूं और क्या याद करूं मैं आज ,
  268. खोके ज़िन्दगी को मैंने खुद को पाया है.........$$$$$

  269. *****************************

  270. बस वक़्त की फिराक़ में ज़िंदगी निकल गयी ,
  271. बात छुपाई हर हाल में पर ज़ुबंा फिसल गयी ,
  272. किया क्या ना हमने और कितना पुकारा उन्हे ,
  273. पर बह चुकी वफ़ा में उनकी निगाह बदल गयी .........$$$$$

  274. *****************************

  275. चिंगारियों से निकली क्या आग़ ये वही है
  276. जिसने जलाया दामन रक़ीबों का बार बार.........$$$$$

  277. *****************************

  278. क्यूँ मुझे वो गीत कुछ सच्चा सा नहीं दिखता है ,
  279. क्यूँ मुझे वो संगीत कुछ अच्छा सा नहीं दिखता है ,

  280. क्यूँ मुझे उन आँखों में काेई सपना सा नहीं दिखता है ,
  281. क्यूँ मुझे उन बातों में कोई अपना सा नहीं दिखता है ,

  282. हैै ये मेरा , मेरे दिल का या मेरी इन आँखों का कसूर ,
  283. कि अक्स मुझे अपना भी धुन्धला सा अब दिखता है.........$$$$$

  284. *****************************

  285. मेरे ग़म मेरी तनहाई को ,
  286. जब से है यूँ चाहा तुमने ,
  287. तभी से मुझे वो तनहाई ,
  288. एक अनजान सी लगती है.........$$$$$

  289. हर लम्हा तबस्सुम की बाहों में ,
  290. हर सांस तरन्नुम की छाँव में ,
  291. हर धड़कन साज़ की महफ़िल में ,
  292. नगमों की बरसात सी लगती है.........$$$$$

  293. मेरी तुम्हारी वो तमाम यादें ,
  294. यादों सी जुडी वो सारी बातें ,
  295. इस रात की उजली छाँव में ,
  296. सपनों की बारात सी लगती है.........$$$$$

  297. *****************************


  298. तुम उदास मत होओ
  299. मैं तुम्हारी
  300. ज़िन्दगी से चला जाऊँगा
  301. एक गुजरे वक़्त की मानिंद
  302. जो कभी नहीं लौटता.........$$$$$
  303. वो तमाम यादें भी
  304. आपने साथ ले जाऊँगा
  305. जो हमेशा तुम्हारे साथ हैं.........$$$$$
  306. दर्द भरी ख़ामोशी भूलकर
  307. मैं मुस्कराऊंगा
  308. ग़म के अफ़साने भूलकर
  309. मैं मीठे गीत गुनगुनाऊंगा
  310. अपनी तन्हाइयों को मैं
  311. अपना हमकदम बनाऊंगा
  312. और भूलकर भी
  313. मैं तुम्हे याद नहीं आऊंगा.........$$$$$
  314. लेकिन जब कभी –
  315. तुम्हे ये अहसास हो
  316. की तुम अकेली हो
  317. तुम्हे किसी दुसरे की
  318. तन्हाई का साथ चाहिए
  319. तब उस मोड़ पर .........$$$$$
  320. तुम देर नहीं करना
  321. मुझे धीरे से पुकार लेना
  322. मैं हमेशा –
  323. कहीं तुम्हारे साथ हूँ.........$$$$$

  324. *****************************

  325. हाँ ! देखी है वो भी एक ज़िन्दगी.........$$$$$

  326. प्यार की ज़फाओं पर आंसू बहाती एक ज़िन्दगी ,
  327. रोती , सुबकती और सिसकती हुई एक ज़िन्दगी ,
  328. हाँ ! ज़िन्दगी ही तो थी और कहूँ क्या मैं उसे ,
  329. वक़्त में तिल तिल कर मरती हुई एक ज़िन्दगी.........$$$$$

  330. *****************************

  331. वो ख़्वाबों के सारे महल ढह गए ,
  332. हसरतें ही बचीं ज़िन्दगी के लिए ,
  333. अब जीने की कोई उमंगें नहीं ,
  334. ज़िन्दगी भी नहीं ज़िन्दगी के लिए.........$$$$$

  335. *****************************

  336. दिल ही दिल में किसी पे मैं मरता रहा ,
  337. बस तन्हाइयों में ही आहें मैं भरता रहा.........$$$$$

  338. इज़हारे इश्क ना कर सका उससे कभी ,
  339. वो इंतज़ार ही तो था जो मैं करता रहा.........$$$$$

  340. *****************************

  341. हर पल एक प्यार की चाह में ,
  342. इस दिल को बेक़रार मैंने देखा है.........$$$$$

  343. एक एक पल उम्र से भी बड़ा था ,
  344. एक ऐसा भी इंतज़ार मैंने देखा है.........$$$$$

  345. जब भी सोचा है आपके बारे में ,
  346. लगता है हसीं ख़्वाब मैंने देखा है.........$$$$$

  347. में आपके और आप मेरे करीब थे ,
  348. ये एक ख़्वाब बार बार मैंने देखा है.........$$$$$

  349. और उन ख़्वाबों से उठकर देखने पे ,
  350. दूर तक आपको ही जनाब मैंने देखा है.........$$$$$

  351. शबनम को फूलों के आस पास देख ,
  352. यूँ लगा आपको उदास मैंने देखा है.........$$$$$

  353. नज़र मिलते ही आपसे कुछ यूँ लगा ,
  354. आप नहीं एक आफताब मैंने देखा है.........$$$$$

  355. आप नहीं तो फूलों से दुश्मनी सी थी ,
  356. पर अब काँटों को खुशबूदार मैंने देखा है.........$$$$$

  357. हर कली को संवारने वाले गुलज़ार का ,
  358. वो एक लाजबाब शाहकार मैंने देखा है.........$$$$$

  359. आपकी आँखों के इस गहरे समंदर में ,
  360. आपने लिए प्यार ही प्यार मैंने देखा है.........$$$$$

  361. *****************************

  362. तुम नहीं तो लगते हैं फूल भी दुश्मन मुझे ,
  363. पर तुम्हारे आते ही काँटों में भी खुशबू होगी.........$$$$$

  364. *****************************

  365. ना जाने वो कैसी नज़र देखते हैं ,
  366. हम तो बस उनकी नज़र देखते हैं ,
  367. नज़र की नज़र से हजारों ये बातें ,
  368. नज़र का नज़र पे असर देखते हैं.........$$$$$

  369. ना जाने …..

  370. नज़र का ये उनका मिलाना तो देखो ,
  371. मिला के नज़र का झुकाना तो देखो ,
  372. नज़र को नज़र से चुराते हुए भी ,
  373. शराफ़त की वो एक नज़र देखते हैं.........$$$$$

  374. ना जाने ….

  375. *****************************

  376. आज आँख मेरी खुल पायी है ,
  377. या तूने दुनिया नयी दिखाई है ,
  378. शुक्र है तेरा ओ मेरे खुदा ,
  379. जो तूने दुनिया मेरी सजाई है.........$$$$$

  380. कहते हैं दुनिया बड़ी हरजाई है ,
  381. चारों तरफ़ फैली बहुत बुराई है ,
  382. पर तूने बख्शी है मुझे नेमत ,
  383. जो दिखे हमेशा मुझे अच्छाई है .........$$$$$

  384. *****************************

  385. Aaj aankh meri khul paayi hai ,
  386. Ya tune duniya nayi dikhai hai ,
  387. Shukr hai tera o mere khuda ,
  388. Jo tune duniya meri sajaai hai.........$$$$$

  389. Kahte hain duniya badi harjaai hai ,
  390. Charon taraf faili bahut buraai hai ,
  391. Par tune bakhshi hai mujhe nemat ,
  392. Jo dikhe hamesha mujhe achchhaai hai.........$$$$$

  393. *****************************

  394. क्या मैं वो नहीं , जो सोचता हूँ मैं ,
  395. फिर क्यूँ मुझे ख़ुद पर , इतना भरोसा है .........$$$$$

  396. *****************************

  397. Kya main wo nahi, jo sochata hun main ,
  398. Phir kyun mujhe khud par, itna bharosa hai.........$$$$$

  399. *****************************

  400. है बरसों से पड़ी सूनी , मेरी ये कलाई ,

  401. याद करते ही ये ,आँख मेरी भर आई.........$$$$$

  402. उसकी आँखों में थी , सदा मेरे लिए दुआएं ,
  403. हर कदम ज़िन्दगी पे , मुझे उसकी याद आई.........$$$$$

  404. था खून एक ही , हम दोनों की रग़ों में ,
  405. पर उसके खून पे , हमेशा ही रंगत आई.........$$$$$

  406. बीत चुके हैं बरसों , और बीते अगिनत पल ,
  407. पर लगता है आएगी , फिर भूलकर वो जुदाई.........$$$$$

  408. मेरा वजूद मेहरबान है , उसकी इबादत का ,
  409. रोम रोम देता मेरा , सदा ही उसकी शुक्राई.........$$$$$

  410. वो मेरी बहन दोस्त थी ,और मैं उसका भाई ,
  411. फिर क्यूँ नहीं कर सके , रिश्ते की हम निभाई.........$$$$$

  412. जीवन की विषमता ने , ना कसर थी उठाई ,
  413. अभेद उन्हें जानकर , थी उसने ली बिदाई.........$$$$$

  414. तोड़ी थी उसने , वक़्त की हर धार उस सुबह ,
  415. और उसके बाद कभी , वो लौटकर नहीं आई .........$$$$$

  416. बरसों की राखियों ने है , याद मुझे ये दिलाई ,
  417. थी लाखों में मेरी बहन ,और मैं उसका भाई.........$$$$$

  418. कलाई मेरी सूनी है , और सूनी ही रहेगी ,
  419. पर दुआएं साथ हैं , और साथ उसकी भलाई.........$$$$$

  420. *****************************

  421. Hai barason se padi sooni , meri ye kalaai ,
  422. Yaad karte hi ye , aankh meri bhar aai.........$$$$$

  423. Uski aankon mein thi , sada mere liye duaayen ,
  424. Har kadam zindagi pe , mujhe uski yaad aayi.........$$$$$
  425. Tha khoon ek hi , hum dono ki ragon mein ,
  426. Par uske khoon pe , hamesha hi rangat aai.........$$$$$
  427. Beeten chuke hain barason , aur beete aginat pal ,
  428. Par lagta hai aayegi , phir bhoolkar wo judaai.........$$$$$
  429. Mera wajood meharbaan hai , usaki ibadat ka ,
  430. Rom rom deta mera , sada hee uski shukraai.........$$$$$
  431. Wo meri bahan dost thi , aur main uska bhai ,
  432. Phir kyun nahin kar sake , rishte ki hum nibhai.........$$$$$

  433. Jeevan ki vishamta ne , na kasar thi uthaai ,
  434. Abhed Unhe jaankar hi , thi usne lee bidaai.........$$$$$

  435. Todi thi usne waqt ki , har dhaar us subah ,
  436. Aur uske baad kabhi , wo lautkar nahin aayi.........$$$$$

  437. Barason ki Raakhiyon ne , hai yaad ye dilaai ,
  438. Thi lakhon mein meri bahan, aur main uska bhai .........$$$$$

  439. Kalaai meri sooni hai , aur sooni hi rahegi ,
  440. Par duaayen saath hain , aur saath uski bhalaai.........$$$$$

  441. *****************************

  442. मैं चलता हूँ दूर , जितना कभी भी
  443. तुम भी , उतनी ही दूर चल जाते हो
  444. फ़र्क सिर्फ़ इतना है , हम दोनों में
  445. मैं पास आता हूँ , तुम दूर जाते हो.........$$$$$

  446. चला है ये सिलसिला , बरसों से हमारा
  447. फिर क्यूँ , इसे तुम नयी बात बतलाते हो
  448. ग़र मिलना ना हो , होके हमरस्ता भी
  449. फिर क्यों साथ का , ऐसा फ़र्ज़ निभाते हो.........$$$$$

  450. *****************************

  451. Main chalata hoon door , jitna kabhi bhi
  452. Tum bhi , utani hi door chal jaate ho
  453. Fark sirf itna hai , hum dono mein
  454. Main paas aata hun , tum door jaate ho.........$$$$$

  455. Chala hai Ye silsila , barason se hamara
  456. Phir Kyun , ise tum nayi baat batalate ho
  457. Gar Milna na ho , hoke humrasta bhi
  458. Phir Kyon saath ka , aisa farz nibhate ho.........$$$$$

  459. *****************************

  460. ग़र की है ख़ता तुमने कहीं भी कभी ,
  461. ना करने की उसे फिर इल्तज़ा की है.........$$$$$

  462. घाव कितना भी गहरा हुआ हो मगर ,
  463. दिल ने फिर भी तेरे लिए दुआ की है.........$$$$$

  464. रस्ते गए हों बदल ज़िन्दगी में तो क्या ,
  465. ना हमने किस्मत तुमसे जुदा की है.........$$$$$

  466. तुमने दी है सज़ा जुदा हो के तो क्या ,
  467. ना हमने कोई मुक़र्रर सज़ा की है.........$$$$$

  468. दिल झुकता है अब भी मिले थे जहाँ ,
  469. तुझसे तनहाइयों में भी वफ़ा की है.........$$$$$

  470. मरते दम तक बसायेंगी ये सूरत तेरी ,
  471. मेरी आँखों ने मुझसे ये रज़ा की है.........$$$$$

  472. *****************************

  473. Gar Ki hai khata tumne kahin bhi kabhi ,
  474. Na use phir karne ki iltaza ki hai.........$$$$$

  475. Ghav kitna bhi gahra hua ho magar ,
  476. Phir bhi Dil ne tere liye dua ki hai .........$$$$$
  477. Raste gaye hon badal zindagi mein to kya ,
  478. Na kismat tumse kabhi juda ki hai.........$$$$$

  479. Tumne di hai saza juda ho ke to kya ,
  480. Na hamne koi mukarar saza ki hai.........$$$$$

  481. Dil jhukta hai ab bhi Mile the jahan ,
  482. Tujhse tanhaaiyon mein bhi wafa ki hai.........$$$$$

  483. Marte dam tak basaayengi ye surat teri ,
  484. Meri ankon ne mujhase ye raza ki hai.........$$$$$

  485. *****************************