Intzaar Shayari in Hindi 2017




शब-ए-इंतज़ार की कशमकश में
न पूछ कैसे सहर हुई....!!!
कभी एक चिराग जला दिया
कभी एक चिराग बुझा दिया....!!!





वो कह कर गया था कि लौटकर आऊँगा....!!!
मैं इंतजार ना करता तो क्या करता....!!!
वो झूठ भी बोल रहा था बड़े सलीके से....!!!
मैं एतबार ना करता तो क्या क्या करता....!!!


कासिद पयामे-शौक को देना बहुत न तूल....!!!
कहना फ़क़त ये उनसे कि आँखें तरस गयीं....!!!




ता फिर न इंतज़ार में नींद आये उम्र भर....!!!
आने का अहद कर गये आये जो ख्वाब में....!!!



तू मुझे याद करे न करे तेरी ख़ुशी....!!!
हम तो तुझे याद करते रहते हैं....!!!
तुझे देखने को दिल तरसता रहता है....!!!
और हम इंतज़ार करते रहते हैं....!!!



उदास आँखों में अपने करार देखा है....!!!
पहली बार उसे बेक़रार देखा है....!!!
जिसे खबर ना होती थी मेरे आने जाने की....!!!
उसकी आँखों में अब इंतज़ार देखा है....!!!





इंतजार तो बस उस दिन का है....!!!....!!!....!!!
जिस दिन तुम्हारे नाम के पीछे हमारा नाम लगेगा....!!!


विक्रम शर्मा द्वारा दिनाँक 28....!!!08....!!!16 को प्रस्तुत | कमेंट करें
रंग तेरे इंतज़ार का....!!!....!!!....!!!

कुछ रोज़ यह भी रंग रहा तेरे इंतज़ार का....!!!
आँख उठ गई जिधर बस उधर देखते रहे....!!!



किन लफ्जों में लिखूँ मैं अपने इन्तजार को तुम्हें....!!!
बेजुबां है इश्क़ मेरा ढूँढता है खामोशी से तुझे....!!!

ये चांदनी रात बड़ी देर के बाद आयी....!!!
ये हसीं मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आयी....!!!
आज आये हैं वो मिलने को बड़ी देर के बाद....!!!
आज की ये रात बड़ी देर के बाद आयी....!!!





उस इश्क़ की आग मेरे दिल को आज भी जलाया करती है....!!!
जुदा हुए तो क्या हुआ ये आँख आज भी उनका इंतज़ार करती है....!!!




न देखने से मेरा प्यार कम ना होगा....!!!
तू पलट के ना देख इजहार कम ना होगा....!!!
तुझको देख कर धड़कनें बढ़ जाती है सच है....!!!
लेकिन तेरे लिए मेरे दिल में प्यार कभी कम ना होगा....!!!


इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा....!!!
यादें काटती हैं ले-ले के नाम तेरा....!!!
मुद्दत से बैठे हैं तेरे इंतज़ार में....!!!
कि आज आयेगा कोई पैगाम तेरा....!!!





किश्तों में खुदकुशी कर रही है ये जिन्दगी....!!!....!!!....!!!
इंतज़ार तेरा....!!!....!!!....!!!मुझे पूरा मरने भी नहीं देता ....!!!


इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा....!!!
यादें कटती हैं ले ले कर नाम तेरा....!!!
मुद्दत से बैठे हैं यह आस पाले....!!!
कि कभी तो आएगा कोई पैगाम तेरा....!!!




आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं....!!!
हर वक़्त आपको ही तो याद करती हैं....!!!
जब तक देख न लें चेहरा आपका....!!!
हर घडी आपका ही इंतज़ार करती हैं....!!!





दिल की धड़कन को....!!! एक लम्हा सब्र नहीं....!!!
शायद उसको अब मेरी ज़रा भी कद्र नहीं....!!!
हर सफर में मेरा कभी हमसफ़र था वो....!!!
अब सफर तो है मगर वो हमसफ़र नहीं....!!!



कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर....!!!
वो मिले भी तो एक किनारा बनकर....!!!
हर ख्वाब टूट के बिखरा काँच की तरह....!!!
बस एक इंतज़ार है साथ सहारा बनकर....!!!







आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं....!!!
हर वक़्त आपको ही बस याद करती हैं....!!!
जब तक ना कर लें दीदार आपका....!!!
तब तक वो आपका इंतज़ार करती हैं....!!!


कहीं वो आ के मिटा दें न
इंतज़ार का लुत्फ़....!!!
कहीं क़ुबूल न हो जाए इल्तिजा मेरी ....!!!



कभी ख़ुशी से ख़ुशी की तरफ नहीं देखा....!!!
तुम्हारे बाद किसी की तरफ नहीं देखा....!!!

ये सोच कर के तेरा इंतजार लाजिम है....!!!
तमाम उम्र घडी की तरफ नहीं देखा ....!!!

कभी ख़ुशी से ख़ुशी की शायरी



ग़जब किया तेरे वादे पर एतबार किया ....!!!
तमाम रात किया क़यामत का इंतज़ार किया....!!!



कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर....!!!
वो मिले भी तो एक किनारा बनकर....!!!
हर ख्वाब टूट के बिखरा काँच की तरह....!!!
बस एक इंतज़ार है साथ सहारा बनकर....!!!



आज तक है उसके लौट आने की उम्मीद....!!!
आज तक ठहरी है ज़िंदगी अपनी जगह....!!!
लाख ये चाहा कि उसे भूल जाये पर....!!!
हौंसले अपनी जगह बेबसी अपनी जगह ....!!!

चले भी आओ तसव्वुर में मेहरबां बनकर....!!!
आज इंतज़ार तेरा....!!! दिल को हद से ज्यादा है ....!!!



वफ़ा में अब यह हुनर इख़्तियार करना है....!!!
वो सच कहें या ना कहें बस ऐतबार करना है....!!!
यह तुझको जागते रहने का शौक कबसे हो गया....!!!
मुझे तो खैर बस तेरा इंतज़ार करना है ....!!!



कोई शाम आती है आपकी याद लेकर....!!!
कोई शाम जाती है आपकी याद देकर....!!!
हमें तो इंतज़ार है उस हसीन शाम का....!!!
जो आये कभी आपको अपने साथ लेकर....!!!



जीने की ख्वाहिश में हर रोज़ मरते हैं....!!!
वो आये न आये हम इंतज़ार करते हैं....!!!
झूठा ही सही मेरे यार का वादा है....!!!
हम सच मान कर ऐतबार करते हैं ....!!!




टूट गया दिल पर अरमां वही है....!!!
दूर रहते हैं फिर भी प्यार वही है....!!!
जानते हैं कि मिल नहीं पायेंगे....!!!
फिर भी इन आँखों में इंतज़ार वही है....!!!

लौट आओ और मिलो उसी तड़प से....!!!
अब तो मुझे मेरी वफाओं का सिला दे दो....!!!
इंतजार ख़त्म नहीं होता है आँखों का....!!!
किसी शब् अपनी एक झलक दे दो....!!