Love Shayari on Husn Ki ishq




तुम हमें कभी दिल कभी आँखों से पुकारो,
ये होंठो के तकल्लुफ तो ज़माने के लिए हैं......#####

*****************************

सूरज ढलते ही रख दिये उसने मेरे होठों पर होंठ,
इश्क का रोज़ा था और गज़ब की इफ्तारी......#####

*****************************

दिल को तेरी चाहत पे भरोसा भी बहुत है,
और तुझ से बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता......#####

*****************************

नहीं है अब कोई तमन्ना इस दिल में,
मेरी पहली और आखिरी जुस्तजू बस तुम हो......#####

*****************************


नहीं भाता अब तेरे सिवा किसी और का चेहरा,
तुझे देखना और देखते रहना दस्तूर बन गया है......#####

*****************************

उसे कह दो अपनी ख़ास हिफाज़त किया करे,
बेशक साँसें उसकी हैं मगर जान तो वो हमारी है......#####

*****************************

दिल से हर मामला कर के चले थे साफ़ हम,
कहने में उनके सामने बात बदल गयी।......#####

*****************************

दिल अपने को एक मंदिर बना रखा है,
उस के अंदर बस तुझ को बसा रखा है,
रखता हूँ तेरी चाहत की तमन्ना रात दिन,
तेरे आने की उम्मीद का दिया जला रखा है......#####

*****************************

अब आ गए हैं आप तो आता नहीं है याद;
वर्ना कुछ हम को आप से कहना ज़रूर था......#####

*****************************

किसी की क्या मज़ाल थी जो कोई हमें खरीद सकता;
हम तो खुद ही बिक गए खरीददार देख कर......#####

*****************************

अभी कम-सिन हो रहने दो कहीं खो दोगे दिल मेरा;
तुम्हारे ही लिए रखा है ले लेना जवाँ हो कर......#####

*****************************

ज़िक्र उस परी-वश का और फिर बयाँ अपना;
बन गया रक़ीब आख़िर था जो राज़-दाँ अपना......#####

*****************************

दिल में आप हो और कोई खास कैसे होगा;
यादों में आपके सिवा कोई पास कैसे होगा;
हिचकियॉं कहती हैं आप याद करते हो;
पर बोलोगे नहीं तो मुझे एहसास कैसे होगा......#####

*****************************

क्या अच्छा क्या बुरा क्या भला देखा;
जब भी देखा तुझे अपने रु ब रु देखा;
सोचा बहुत भूल कर ना सोचूंगा तुझे;
जिस रात आँख लगी फिर तुझे हर ख्वाब में देखा......#####

*****************************

आहिस्ता आहिस्ता आपका यकीन करने लगे हैं;
आहिस्ता आहिस्ता आपके करीब आने लगे हैं;
दिल तो देने से घबराते हैं मगर;
आहिस्ता आहिस्ता आपके दिल की कदर करने लगे हैं......#####

*****************************

कल तेरा जिक्र हुआ महफ़िल में,
और महफ़िल देर तक महकती रही......#####

*****************************

ऐ काश कुदरत का कहीं ये नियम हुआ करे,
तुझे देखने के सिवा ना मुझे कोई काम हुआ करे......#####

*****************************

मुझसे नफरत ही करनी है तो इरादे मजबूत रखना;
जरा से भी चूक हुई तो मोहब्बत हो जायेगी......#####

*****************************

उनके लबो पर देखो फिर आज मेरा नाम आया है;
लेकर नाम मेरा देखो महबूब आज कितना शरमाया है;
पूछे मेरी ये आँखे उनसे कि कितनी मोहब्बत है मुझसे;
बोले वो पलके झुका कि मेरी हर साँस में बस तू ही समाया है......#####

*****************************

मैं जो चाहूँ तो अभी तोड़ लूँ नाता तुम से;
पर मैं बुझ-दिल हूँ मुझे मौत से डर लगता है......#####

*****************************

हम ने सीने से लगाया दिल न अपना बन सका;
मुस्कुरा कर तुम ने देखा दिल तुम्हारा हो गया......#####

*****************************

हाल तो पूछ लू तेरा पर डरता हूँ आवाज़ से तेरी;
ज़ब ज़ब सुनी है कमबख्त मोहब्बत ही हुई है......#####

*****************************

मुझे याद करने से ये मुद्दा था;
निकल जाए दम हिचकियाँ आते आते......#####

*****************************

जब पास हों तो रुख से निगाहें ना मोड़ना;
जब दूर हों तो मेरा तस्सावुर न छोड़ना;
सोच लेना दिल लगाने से पहले एक बार;
मुश्किल बहुत है निभाने रिश्ते,
भूल कर भी कभी इनकी ज़ंजीरें ना तोडना......#####


*****************************

आँखों में देख कर वो दिल की हकीकत जानने लगे;
उनसे कोई रिश्ता भी नहीं फिर भी अपना मानने लगे;
बन कर हमदर्द कुछ ऐसे उन्होंने हाथ थामा मेरा;
कि हम खुदा से दर्द की दुआ मांगने लगे......#####

*****************************

वादा करके और भी आफ़त में डाला आपने;
ज़िन्दगी मुश्किल थी, अब मरना भी मुश्किल हो गया......#####

*****************************

इश्क़ है इश्क़ ये मज़ाक़ नहीं;
चंद लम्हों में फ़ैसला न करो......#####

*****************************

देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं;
दिल में मेरे सुलगते तूफ़ान किसके हैं;
नहीं गुज़रा कोई आज तक इस रास्ते से हो कर;
फिर ये क़दमों के निशान किसके हैं......#####

*****************************

ना छोड़ना मेरा साथ ज़िन्दगी में कभी;
शायद मैं ज़िंदा हूँ तेरे साथ की वजह से......#####

*****************************

उसे मैं ढाँप लेना चाहता हूँ अपनी पलकों में;
इलाही उस के आने तक मेरी आँखों में दम रखना......#####

*****************************

आँखों की गहराई को समझ नहीं सकते;
होंठों से हम कुछ कह नहीं सकते;
कैसे बयाँ करें हम यह हाल-ए-दिल आपको;
कि तुम्हीं हो जिसके बगैर हम रह नहीं सकते......#####

*****************************

बहुत वक़्त लगा हमें आप तक आने में;
बहुत फरियाद की खुदा से आपको पाने में;
कभी यह दिल तोड़ कर मत जाना;
हमने उम्र लगा दी आप जैसा सनम पाने में......#####

*****************************

कोई मेरे दिल से पूछे तेरे तीर-ए-नीम-कश को;
ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता......#####

*****************************

तेरी चुप्पी अगर तेरी कोई मज़बूरी है;
तो रहने दे इश्क़ कौन सा ज़रूरी है।


*****************************


Har subah teri muskurati rahay
Har shaam teri gungunati rahay
Tu jise bhi mile is tarahe se milay
Ke har milne wale ko teri yaad aati rahay......#####

*****************************

Kuch to jeete hain jannat ki tamanna lekar,
Kuch tamannayein jeena sikha deti hain,
Hum kis tamanna ke sahare jiyein,
Ye zindgi roz ek tamanna badha deti hai........#####


Woh dard hi kya jo aankhon se beh jaye ......#####
Woh khushi hi kya jo hothon par rah jaye ......#####
Kabhi to samjho meri khamoshi ko !
Woh baat hi kya jo lafz aashani se kah jaye......#####


*****************************

Har sagar ke do kinare hote hai ,
kuch log jan se bhi pyare hote hai ,
ye jaruri nahi ki har koi pas ho ,
kyunki jindgi me yado ke bhi sahare hote hai.......#####


*****************************

Tanha khud ko kabhi hone mat dena,
Apno ko kabhi rone mat dena,
Aap bhut khaas hai humare liye,
Is khayal ko apne se kabhi juda hone mat dena.......#####

**********************************

तेरा अक्स गढ़ गया है आँखों में कुछ ऐसा,
सामने खुदा भी हो तो दिखता है हू-ब-हू तुझ जैसा......#####

*****************************

मुझ से रूठकर वो खुश है तो शिकायत ही कैसी, 
अब मैं उनको खुश भी ना देखूं तो हमारी मोहब्बत ही कैसी......#####

*****************************

तुझे कोई और भी चाहे इस बात से दिल थोड़ा जलता है,
पर फखर है मुझे इस बात पर कि हर कोई मेरी पसंद पे ही मरता है......#####

*****************************

हाल तो पूछ लू तेरा पर डरता हूँ आवाज़ से तेरी,
ज़ब ज़ब सुनी है कमबख्त मोहब्बत ही हुई है......#####

*****************************

तू होश में थी फिर भी हमें पहचान न पायी,
एक हम हैं कि पी कर भी तेरा नाम लेते रहे......#####

*****************************

ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ,
मुझे तुम से मोहब्बत है बताना भूल जाता हूँ,
तेरी गलियों में फिरना इतना अच्छा लगता है,
मैं रास्ता याद रखता हूँ ठिकाना भूल जाता हूँ......#####

*****************************

अदा है, ख्वाब है, तकसीम है, तमाशा है;
मेरी इन आँखों में एक शख्स बेतहाशा है......#####

*****************************

बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये,
कि वो आज नजरों से हमें अपनी पिलायें;
मजा तो तब ही पीने का यारो,
इधर हम पियें और नशा उनको हो जाये......#####

*****************************

मुद्दत के बाद उसने जो आवाज़ दी मुझे,
कदमों की क्या बिसात थी, साँसे ठहर गयीं......#####

*****************************

मैंने अपने आप को हमेशा बादशाह समझा,
एहसास तब हुआ जब तुझे माँगा फकीरों की तरह......#####

*****************************


तेरे जल्वों ने मुझे घेर लिया है ऐ दोस्त,
अब तो तन्हाई के लम्हे भी हसीं लगते हैं......#####

*****************************

ये न जाने थे कि उस महफ़िल में दिल रह जाएगा,
हम ये समझे थे चले आएँगे दम भर देख कर......#####

*****************************

छीनकर हाथों से जाम वो इस अंदाज़ से बोली,
कमी क्या है इन होठों में जो तुम शराब पीते हो......#####

*****************************

ये याद है तुम्हारी या यादों में तुम हो,
ये ख्वाब हैं तुम्हारे या ख्वाबों में तुम हो,
हम नहीं जानते हमें बस इतना बता दो,
हम जान हैं तुम्हारी या हमारी जान तुम हो......#####

*****************************

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतश ग़ालिब,
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने......#####

*****************************

मेरी यादो मे तुम हो, या मुझ मे ही तुम हो,
मेरे खयालो मे तुम हो, या मेरा खयाल ही तुम हो,
दिल मेरा धडक के पूछे, बार बार एक ही बात,
मेरी जान मे तुम हो, या मेरी जान ही तुम हो......#####

*****************************

अज़ीज़ इतना ही रखो कि जी संभल जाये,
अब इस कदर भी ना चाहो कि दम निकल जाये......#####

*****************************

मुझको चाहते होंगे और भी बहुत लोग,
मगर मुझे मोहब्बत सिर्फ अपनी मोहब्बत से है......#####

*****************************

दूर रह कर भी जो समाया है मेरी रूह में;
पास वालों पर वो शख्स कितना असर रखता होगा......#####

*****************************

यह मेरा इश्क़ था या फिर दीवानगी की इन्तहा,
कि तेरे ही करीब से गुज़र गए तेरे ही ख्याल से......#####

*****************************


कर दे इश्क़ में अपने मदहोश तरह कि,
होश भी आने से पहले इज़ाज़त माँगे......#####

*****************************

मोहब्बत का कोई रंग नहीं फिर भी वो रंगीन है,
प्यार का कोई चेहरा नहीं फिर भी वो हसीन है।

*****************************

होगी कितनी चाहत उस दिल में,
जो खुद ही मान जाये कुछ पल खफा होने के बाद......#####

*****************************

मत देखो हमें तुम यूँ इस कदर,
इश्क़ तुम कर बैठोगे और इलज़ाम हम पे लग जायेगा......#####

*****************************

देख लेते हो मोहब्बत से यही काफी है,
दिल धड़कता है सहूलत से यही काफी है,
हाल दुनिया के सताए हुए कुछ लोगों का,
पूछ लेते हो शरारत से यही काफी है......#####

*****************************

तुम को चाहने की वजह कुछ भी नहीं,
बस इश्क़ की फितरत है बेवजह होना......#####

*****************************

तुम्हारी आँखों में बसा है आशियाना मेरा,
अगर ज़िन्दा रखना चाहो तो कभी आँसू मत लाना......#####

*****************************

गुफ्तगू उनसे होती यह किस्मत कहाँ,
ये भी उनका करम है कि वो नज़र तो आये......#####

*****************************

सजा है मौसम तुम्हारी महक से आज फिर;
लगता है हवायें तुम्हें छू कर आयी हैं......#####

*****************************

चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं;
मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते हैं;
बच के रहना इन हुस्न वालों से यारो;
इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं......#####

*****************************

कौन सी बात है जो उस में नहीं,
उस को देखे मेरी नज़र से कोई......#####

*****************************

अगर तुम्हें यकीन नहीं तो कहने को कुछ नहीं मेरे पास,
अगर तुम्हें यकीन हैं तो मुझे कुछ कहने की ज़रूरत नहीं......#####

*****************************

हम उनके दिल पर राज़ करते थे,
मेरा दिल जिनका गुलाम आज भी है......#####

*****************************

याद रखना ही मोहब्बत में नहीं है सब कुछ,
भूल जाना भी बड़ी बात हुआ करती है......#####

*****************************

जिस को जाना ही नहीं उस को ख़ुदा कैसे कहें;
और जिसे जान लिया हो वो ख़ुदा कैसे हो......#####

*****************************

रोज़ वो ख़्वाब में आते हैं गले मिलने को,
मैं जो सोता हूँ तो जाग उठती है क़िस्मत मेरी......#####

*****************************

बोसा देते नहीं और दिल पे है हर लहज़ा निगाह,
जी में कहते हैं कि मुफ़्त आए तो माल अच्छा है......#####

*****************************

कुछ इस अदा से आज वो पहलू-नशीं रहे,
जब तक हमारे पास रहे हम नहीं रहे......#####

*****************************

उल्टी हो गईं सब तदबीरें कुछ न दवा ने काम किया,
देखा इस बीमारी-ए-दिल ने आख़िर काम तमाम किया।

*****************************

ये तो नहीं कि तुम सा जहान में हसीन नहीं,
इस दिल का क्या करूँ ये बहलता कहीं नहीं......#####

*****************************

चंद साँसे बची हैं आखिरी बार दीदार दे दो,
झूठा ही सही एक बार मगर तुम प्यार दे दो,
जिंदगी वीरान थी और मौत भी गुमनाम ना हो,
मुझे गले लगा लो फिर मौत मुझे हजार दे दो......#####

*****************************

*****************************

Man me chupa raaz bataun to kese,
Tumhe apne karib laun to kese,
Dil k arman sabhi,
Dil me na reh jayen kahin,
Chahat apni tujh par jtaun bhi to kese.......#####


*****************************

Har subah teri muskurati rahay,
Har shaam teri gungunati rahay
Tu jisse bhi mile is tarahe se milay
Ke har milne wale ko teri yaad aati rahay......#####

*****************************

Kabhi badlti hui taqdir nazar ati hai......#####
Posted on May 23, 2013 by admin
Kabhi badlti hui taqdir nazar ati hai,
Yadoon ki bas ek jangir nazar ati hai,
Pade bhi to kya padein Yaar,
Mujhe mobile me bhi teri tasveer nazar ati hai.......#####

*****************************

Aankhon me rehne walon ko yaad nahi karte......#####
Posted on May 15, 2013 by admin
Aankhon me rehne walon ko yaad nahi karte,
Dil me rehne walon ki baat nahi karte,
Humari to ruh me bus gaye ho aap,
Tabhi to hum milne ki fariyaad nahi karte.......#####

*****************************

Kahte hain pholon ki juban nahi hoti,
Lafzon me khushi bayan nahi hoti,
Mila hai msg humara to kadar Kijiye,
Hamari Fursat har kisi par meharban nahi hoti.......#####

*****************************

Saath na hone se rishte nahi tuta karte,
Baat na hone se lamhe nahi tuta karte,
Log kehte hai mera sapna tut gaya,
Tutti to neend hai sapne nahi tuta karte.......#####

*****************************

Ankhon me rahne walon ko yaad nahi karte,
Dil me rehne walon ki baat nahi karte,
Humari to ruh me bus gaye ho aap,
Tabhi to hum milne ki fariyaad nahi karte......#####


*****************************


  Har taraf duniya me itni rasme kyu hai,
pyar agar jindgi to isme kasme kyu hai,
hame batata kyu nahi is raaz ko,
dil hai apna to kisi or ke basme kyu hai......#####

*****************************

Akash me sitaro k nikalne se pahle,
jami par sitaro k bikhrne se phale,
kas khuda s tumhe mang liya hota,
tumhare jami pe utarne se pahle......#####

*****************************

Sath chut jane se rishte nahi tuta karte,
Waqt ki dhund se lamhe nhi tuta karte,
Log kahte hai mera SAPNA tut gaya,
Tuti to neend hai, SAPNE nhi tuta karte......#####


*****************************

सौ बार कहा दिल से चल भूल भी जा उसको,
सौ बार कहा दिल ने तुम दिल से नहीं कहते।

*****************************

इंतज़ार मेरी उम्र से लंबा हो शायद,
तेरा आना इस मर्ज़ की दवा हो शायद......#####

*****************************

इत्तेफ़ाक़ से ही सही मगर मुलाकात हो गयी;
ढूंढ रहे थे हम जिन्हें आखिर उन से बात हो गयी;
देखते ही उन को जाने कहाँ खो गए हम;
बस यूँ समझो दोस्तो वहीं से हमारे प्यार की शुरुआत हो गयी......#####

*****************************

तेरे बिना टूट कर बिखर जायेंगे;
तुम मिल गए तो गुलशन की तरह खिल जायेंगे;
तुम ना मिले तो जीते जी ही मर जायेंगे;
तुम्हें जो पा लिया तो मर कर भी जी जायेंगे......#####

*****************************

फ़िज़ा की महकती शाम हो तुम,
प्यार में छलकता जाम हो तुम,
सीने में छुपाये फिरता हूँ यादें तुम्हारी,
इसलिए मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हो तुम......#####

*****************************

जब से मुँह को लग गई अख़्तर मोहब्बत की शराब,
बे-पिए आठों पहर मदहोश रहना आ गया......#####

*****************************

उस की बाहों में सोने का अभी तक शौंक है मुझको,
मोहब्बत में उजड़ कर भी मेरी आदत नहीं बदली।

*****************************

कहीं वो आ के मिटा दें न इंतज़ार का लुत्फ़,
कहीं क़ुबूल न हो जाए इल्तिजा मेरी......#####

*****************************

धडकनों को कुछ तो काबू में कर ए दिल,
अभी तो पलकें झुकाई हैं मुस्कुराना अभी बाकी है उनका......#####

*****************************

मोहब्बत मुझे थे उसी से सनम,
यादों में उसकी यह दिल तड़पता रहा,
मौत भी मेरी चाहत को न रोक सकी,
क़ब्र में भी यह दिल उसके लिए धड़कता रहा......#####

*****************************

अब तक ख़बर न थी कि मोहब्बत गुनाह है;
अब जान कर गुनाह किए जा रहा हूँ मैं......#####

*****************************

लिखा था राशि में आज खज़ाना मिल सकता है,
कि अचानक गली में सनम पुराना दिख गया......#####

*****************************

कोई समझे तो एक बात कहूँ,
इश्क़ तौफ़ीक़ है गुनाह नहीं......#####

*****************************

तोहमतेँ तो लगती रही रोज़ नयी नयी हम पर,
मगर जो सबसे हसीन इलज़ाम था वो तेरा नाम था......#####

*****************************

आदत सी हो गयी है तेरे करीब रहने की,
बस इतना बता तेरी साँसों की खुशबू वाला इत्र मिलेगा कहाँ......#####

*****************************


Love Shayari on Husn Ki ishq,hindi shayari iske,ishq shayari in hindi font,love shayari in hindi,ishq shayari in hindi language,pyar bhari shayari,ishq shayari two lines,mohabbat shayari,very sad shayari,dard bhari shayari.