shayari for your love






  • मिरा मोहताज होना तो मिरी हालत से ज़ाहिर है
  • मगर हाँ देखना है आप का हाजत-रवा* होना

  • *************************

  • Mira mohtaaz hona to miri haalat se zaahir hain
  • Magar haan dekhana hain aap ka haajat-rawa hona


  • *************************

  • नाज़ क्या इस पे जो बदला है ज़माने ने तुम्हें
  • मर्द हैं वो जो ज़माने को बदल देते हैं

  • *************************

  • Naaz kya is pe jo badala hain zamaane ne tumhein
  • Mard hain wo jo zamaane ko badal dete hain


  • *************************

  • नौकरों पर जो गुज़रती है मुझे मालूम है
  • बस करम कीजे मुझे बेकार रहने दीजिए

  • *************************

  • Naukaron par jo gujarti hai mujhe maloom hai
  • Bas karam kije mujhe bekaar rehane dijiye


  • *************************

  • पैदा हुआ वकील तो शैतान ने कहा
  • लो आज हम भी साहिब-ए-औलाद हो गए

  • *************************

  • Paida hua wakeel to shaitan ne kaha
  • Lo aaj ham bhi saahib-e-aulad ho gaye

  • *************************

  • रहता है इबादत में हमें मौत का खटका
  • हम याद-ए-ख़ुदा करते हैं कर ले न ख़ुदा याद

  • *************************

  • Rehata hai ibaadat mein hamein maut ka khatka
  • Ham yaad-e-khuda karte hain kar le na khuda yaad


  • *************************

  • तअल्लुक़*  आशिक़* ओ माशूक़* का तो लुत्फ़ रखता था
  • मज़े अब वो कहाँ बाक़ी रहे बीवी मियाँ हो कर


  • *************************

  • Talluk aashiq o maashuk ka to lutf rakhta tha
  • Maje ab wo kahan baaki rahe bivi miyan ho kar


  • *************************

  • समझ में साफ़ आ जाए फ़साहत* इस को कहते हैं
  • असर हो सुनने वाले पर बलाग़त* इस को कहते हैं


  • *************************

  • Samajh mein saaf aa jaaye fasaahat is ko kehate hain
  • Asar ho sunne waale par balaagat is ko kehate hain


  • *************************

  • सौ जान से हो जाऊँगा राज़ी मैं सज़ा पर
  • पहले वो मुझे अपना गुनहगार तो कर ले

  • *************************

  • Sau jaan se ho jaaunga raazi main saza par
  • Pehale wo mujhe apna gunhagaar to kar lein


  • *************************

  • सीने से लगाएँ तुम्हें अरमान यही है
  • जीने का मज़ा है तो मिरी जान यही है

  • *************************

  • Seene se lagaaye tumhein armaan yahi hain
  • Jeene ka maza hain to miri jaan yahi hain


  • *************************

  • रक़ीबों ने रपट लिखवाई है जा जा के थाने में
  • कि ‘अकबर’ नाम लेता है ख़ुदा का इस ज़माने में

  • *************************

  • Raqeebon ne rapat likhwaai hain ja ja ke thaane mein
  • Ki Akbar naam leta hain Khuda ka is zamaane  mein


  • *************************

  • तय्यार थे नमाज़ पे हम सुन के ज़िक्र-ए-हूर
  • जल्वा बुतों का देख के नीयत बदल गई

  • *************************

  • Tayyaar the namaaz pe ham sun ke jikar-e-hoor
  • Jalwa buton ka dekha ke niyat badal gai


  • *************************

  • वस्ल हो या फ़िराक़ हो ‘अकबर’
  • जागना रात भर मुसीबत है

  • *************************

  • Wasl ho ya firaaq ho Akbar
  • Jaagana raat bhar musibat hain

  • *************************

  • ये दिलबरी ये नाज़ ये अंदाज़ ये जमाल
  • इंसाँ करे अगर न तिरी चाह क्या करे

  • *************************

  • Ye dilbari ye naaz ye andaaz ye zamaal
  • Insaan kare agar na tiri chaah kya kare

  • *************************

  • ये है कि झुकाता है मुख़ालिफ़* की भी गर्दन
  • सुन लो कि कोई शय नहीं एहसान से बेहतर


  • *************************

  • Ye hai ki jhukaata hai mukhalif ki bhi gardan
  • Sun lo ki koi shay nahin ehsaan se behatar


  • *************************

  • अकबर दबे नहीं किसी सुल्ताँ की फ़ौज से
  • लेकिन शहीद हो गए बीवी की नौज से

  • *************************

  • Akbar dabe nahin kisi sultan ki fauj se
  • Lekin shahid ho gaye Bivi ki nauj se

  • *************************

  • हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम
  • वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता

  • *************************

  • Ham aah bhi karte hai to ho jate hai Badnaam
  • Wo qatl bhi karte hai to charcha nahin hota

  • *************************

  • अब तो है इश्क़-ए-बुताँ में ज़िंदगानी का मज़ा
  • जब ख़ुदा का सामना होगा तो देखा जाएगा

  • *************************

  • Ab to hai ishq-e-buta mein zindagani ka maza
  • Jab khuda ka saamana hoga to dekha jaayega

  • *************************

  • आह जो दिल से निकाली जाएगी
  • क्या समझते हो कि ख़ाली जाएगी

  • *************************

  • AAh jo dil se nikali jaayegi
  • Kya samjhte ho ki khaali jaayegi


  • *************************

  • दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ
  • बाज़ार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ
  • *************************

  • Duniya mein hoon duniya ka talabgaar nahin hun
  • Bazaar se gujara hun kharidaar nahin hun


  • *************************

  • ग़म्ज़ा* नहीं होता कि इशारा नहीं होता
  • आँख उन से जो मिलती है तो क्या क्या नहीं होता


  • *************************

  • Gamza nahin hota ki ishaara nahin hota
  • Aankh un se jo milati hai to kya kya nahin hota


  • *************************

  • हम ऐसी कुल किताबें क़ाबिल-ए-ज़ब्ती समझते हैं
  • कि जिन को पढ़ के लड़के बाप को ख़ब्ती* समझते हैं


  • *************************

  • Ham aesi kul kitaabein kaabil-e-zabti samjahte hain
  • Ki jin ko padh ke ladke baap ko khabti samjhte hai


  • *************************

  • हम क्या कहें अहबाब* क्या कार-ए-नुमायाँ* कर गए
  • बी-ए हुए नौकर हुए पेंशन मिली फिर मर गए


  • *************************

  • Ham kya kahein ahbaab kya kaar-e-numaayan kar gaye
  • B.A. hue naukar hue penshan mili phir mar gaye


  • *************************

  • हर ज़र्रा* चमकता है अनवार-ए-इलाही* से
  • हर साँस ये कहती है हम हैं तो ख़ुदा भी है

  • *************************

  • Har jarra chamkata hain anwaar-e-ilaahi se
  • Har saans ye kehati hain ham hai to khuda bhi hain


  • *************************

  • हया से सर झुका लेना अदा से मुस्कुरा देना
  • हसीनों को भी कितना सहल* है बिजली गिरा देना


  • *************************

  • Haya se sar jhuka lena ada se muskura dena
  • Haseenon ko bhi kitna sahal hain bijali gira dena


  • *************************

  • इस क़दर था खटमलों का चारपाई में हुजूम
  • वस्ल* का दिल से मेरे अरमान रुख़्सत हो गया


  • *************************

  • Is kadar tha khatmalon ka chaarpaai mein hujoom
  • Vasl ka dil se mere armaan rukhsat ho gaya


  • *************************

  • जो कहा मैं ने कि प्यार आता है मुझ को तुम पर
  • हँस के कहने लगा और आप को आता क्या है

  • *************************

  • Jo kaha main ne ki pyaar aata hain mujh ko tum par
  • Hans ke kehane lagaa aur aap ko aata kya hain

  • *************************

  • इश्क़ के इज़हार में हर-चंद रुस्वाई तो है
  • पर करूँ क्या अब तबीअत आप पर आई तो है
  • *************************

  • Ishq ke ijhaar mein har chand ruswaai to hain
  • Par karun kya tabiat aap par aai to hain


  • *************************

  • इश्क़ नाज़ुक-मिज़ाज है बेहद
  • अक़्ल का बोझ उठा नहीं सकता

  • *************************

  • Ishq najuk-mijaaj hain behad
  • Akl ka bojh utha nahin sakta

  • *************************

  • जान शायद फ़रिश्ते छोड़ भी दें
  • डॉक्टर फ़ीस को न छोड़ेंगे

  • *************************

  • Jaan shaayad farishte chhod bhi dein
  • doktar fees ko na chhodenge

  • *************************

  • जब ग़म हुआ चढ़ा लीं दो बोतलें इकट्ठी
  • मुल्ला की दौड़ मस्जिद ‘अकबर’ की दौड़ भट्टी

  • *************************

  • Jab gham hua chadha li do botalein ikaththi
  • Mulla ki daud maszid ‘Akbar’ ki daud bhatti


  • *************************

  • जब मैं कहता हूँ कि या अल्लाह मेरा हाल देख
  • हुक्म होता है कि अपना नामा-ए-आमाल देख

  • *************************

  • Jab mein kehata hun ki ya Allah mera haal dekh
  • Hukm hota hin ki apna nama-e-aaamaal dekh

  • *************************

  • जवानी की दुआ लड़कों को ना-हक़ लोग देते हैं
  • यही लड़के मिटाते हैं जवानी को जवाँ हो कर

  • *************************

  • Jawani ki dua ladakon ko na-haq log dete hain
  • Yahi ladke mitaate hain jawaani ko jawan ho kar

  • *************************

  • हुए इस क़दर मोहज़्ज़ब* कभी घर का मुँह न देखा
  • कटी उम्र होटलों में मरे अस्पताल जा कर

  • *************************

  • Hue is qadar mohjjab kabhi ghar ka munh na dekha
  • Kati umar hotalon mein mare aspataal jaa kar

  • *************************

  • जो वक़्त-ए-ख़त्ना मैं चीख़ा तो नाई ने कहा हँस कर
  • मुसलमानी में ताक़त ख़ून के बहने से आती है

  • *************************

  • Jo waqt-e-khatna main cheekha to naai ne kaha hans kar
  • Musalmani mein taakat khoon ke behane se aati hain

  • *************************

  • खींचो न कमानों को न तलवार निकालो
  • जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो

  • *************************

  • Kheencho na kamaanon ko na talwaar nikaalo
  • Jab top muqaabil ho to akhbaar nikaalo

  • *************************

  • किस नाज़ से कहते हैं वो झुंजला के शब-ए-वस्ल*
  • तुम तो हमें करवट भी बदलने नहीं देते


  • *************************

  • Kis naaz se kehate hain wo jhunjala ke shab-e-wasl
  • tum to hamein karwat bhi badalne nahin dete


  • *************************

  • कुछ तर्ज़-ए-सितम भी है कुछ अंदाज़-ए-वफ़ा भी
  • खुलता नहीं हाल उन की तबीअत का ज़रा भी

  • *************************

  • Kuchh tarz-e-sitam bhi hain kuchh andaz-e-wafa bhi
  • Khulta nahin haal un ki tabiyat ka zara bhi


  • *************************

  • क्या वो ख़्वाहिश कि जिसे दिल भी समझता हो हक़ीर*
  • आरज़ू वो है जो सीने में रहे नाज़ के साथ

  • *************************

  • Kya wo khwahish ki jise dil bhi samjhata ho hakeer
  • Aarjoo wo hain jo seene mein rahe naaz ke saath


  • *************************

  • लिपट भी जा न रुक ‘अकबर’ ग़ज़ब की ब्यूटी है
  • नहीं नहीं पे न जा ये हया की ड्यूटी है
  • *************************

  • Lipat bhi ja na ruk ‘Akbar’ gajab ki byuti hain
  • Nahin nahinpe na jaa ye haya ki duty hain


  • *************************

  • मेरी ये बेचैनियाँ और उन का कहना नाज़ से
  • हँस के तुम से बोल तो लेते हैं और हम क्या करें

  • *************************

  • Meri ye bechaniyan aur un ka kehana naaz se
  • hans ke tum se bol to lete hain aur ham kya karein


  • *************************