Youth Quotes in Hindi

भारत में पहले बने ,, रीती और रिवाज...!!!...!!!
अब बन गए सब ,, निति और राज...!!!...!!!!!
कैसी जाती मैरे भाई ,, कैसा यह समाज...!!!...!!!
कोई तो उठाओ अब ,, अपनी यह आवाज़...!!!...!!!!! 

जब भी कोई सुनाता है ,, अपनी आप बीती...!!!...!!!
बिन बातें छिड जाती  ,, सब में "राजनीती"...!!!...!!!!!
कोई उसका  दुखड़ा सुन ,, गले नहीं लगाता उसे...!!!...!!!
बस गठित हो जाती है ,, सैकड़ो "समिति "...!!!...!!!!!

कोई चला जुलुस- जलसे संग ,, गांव -गांव ,, शहर - शहर...!!!...!!!
फिर भी जीवन भिक्षा मांगे ,, बेटी क्यों दर - दर...!!!...!!!!! 
कोई मामा बनकर उनको ,, गोदी में उठाता रहा...!!!...!!!
फिर भी यह शहर बन रहा  ,, दरिंदगी का घर...!!!...!!!!!

गाजे बाजे खूब बजे ,, जीते गांव - शहर ...!!!...!!!
बैठो  मत चुप चाप अब ,, ढ़हने लगा कहर...!!!...!!!
अब भी उठ खड़ा हो हर युवा ,, उठे एक ही स्वर...!!!...!!!
बदल दे हम सब मिलकर ,, यह तस्वीर ए शहर...!!!...!!!!! 


मेरी प्रेरणा - मेरे पापा



आंखें खोली जिस दिन दुनिया में ,, गोद में खुद को पाया था...!!!...!!!
फिर किसी दिल ने मुझेको ,, अपने दिल से लगाया था...!!!...!!!!!

इस बैगनी दुनिया में ,, उन हाथो को जब थांम लिया...!!!...!!!
आंखे उनकी भर आई जब ,, "पापा" मैंने नाम लिया...!!!...!!!!!

मेरी आंखे नम देखकर ,, वो भी रह ना पाते है ...!!!...!!!
मेरी रक्षा करने को ,, दुनिया से वो लड़ जाते है...!!!...!!!!! 

कितने बरस बीत गए ,, पर यह रिश्ता गहराया है...!!!...!!!
दुनिया की इस दौड़ में हमको ,, उन्होंने आगे बढाया है...!!!...!!!!!

एक विश्वास है उनका मुझ पर ,, जो मुझको जीत दिला ता है...!!!...!!!
उनकी आँखों  की चमक से ,, एक सुकून मिल जाता है...!!!...!!!!!

बस अब इतनी इच्छा है की ,, उनका सर न झुकने दे...!!!...!!!
उनकी बेटी के कदमो को ,, किसी तरह न रुकने दे...!!!...!!!!!

अब तक उनकी छाया में ,, संस्कारो को पाया है...!!!...!!!
उनकी सिख से ही हमने ,, इस दुनिया को अपनाया है...!!!...!!!!!

आज इस  मौके पर उनको ,, यह विश्वास दिलाते है ...!!!...!!!
जन्मदिवस पर उनके हम  ,, सारी खुशिया लुटाते है ...!!!...!!!!! :)



भ्रष्टाचार 





अब भ्रष्टता की हद होने लगी है...!!!...!!!

इंसानियत चंद सिक्को में खोने लगी है...!!!...!!!

रोज़ कोई नेता - कोई कर्मचारी ,, सामने आता है...!!!...!!!

देखो भारत की भूमि पर ,, कैसे दाग लगाता है ...!!!...!!!!!


एक गरीब के पैसे से तुम अपना पेट क्यों भरते हो...!!!...!!!
लालच की यह धुंध है केसी ,, जो भगवान से ना तुम डरते हो...!!!...!!!
उन बिलखती आँखों के तुम ,, आंसू तो न पोछ सके...!!!...!!!
खुद की खुदगर्जी में ,, भूके  बच्चो का न सोच सके...!!!...!!!!!



माता पिता ने पढ़ा लिखाकर ,, तुमको अफसर बना दिया...!!!...!!!
आज देखकर लगता है की ,, सबसे बड़ा एक गुनाह किया...!!!...!!!
रिश्वत लेने से अच्छा  था ,, भिक्षा लेकर जी लेते...!!!...!!!
मुह खोलकर मांगे पैसे ,, बेहतर होंठ तुम सी लेते...!!!...!!!!!


लाखों का धन है तो भी ,, क्यों आज भिखारी बन बैठे...!!!...!!!
काले धन की पूजा करके ,, जाने केसे तन बैठे...!!!...!!!
भूल गए ,, बचपन में तुम भी,, खिलौना देख रो देते थे...!!!...!!!
आज कैसे ,, उन नन्हे हाथों से ,, खेलने का हक़ ले बैठे...!!!...!!!!!


एक आदमी पेट काट कर ,, अपना घर चलाता है...!!!...!!! 
खून पसीना बहा बहा कर ,, मेहनत की रोटी  खाता है...!!!...!!!  
खुद भूका सो जाये  पर ,, बच्चो की  रोटी लाता है...!!!...!!!   
तू उनसे छीन निवाला ,, जाने कैसे जी पता है...!!!...!!! !!



माता पिता है - बोझ नहीं 


आज  यह  आंखे ,, उनका  हाल  देख  आई ...!!!...!!!!!
जो  अपनों  से  दूर ,, किसी  कोने  में  रह  रहे  है ...!!!...!!!
दर्द  ए जुदाई  है ,, जो  वो  हर  रोज़  सह  रहे  है ...!!!...!!!


बड़ी मुश्किल से थाम पाई,,मैं उनका  हाथ ...!!!...!!!
जो  काम्प्तें  - काम्प्तें  कह  रहे  थे ...!!!...!!!!!
एक  झलक  दिखा  दो  उस  बेटे  की ...!!!...!!!
जिनकी  ऊँगली  थामे  ,,हम  रह  रहे  थे ...!!!...!!!!!

उन  आँखों  की  तड़प  देखकर ,, मेरा  दिल भी  रो  बैठा ...!!!...!!!
सुनकर  उनकी  दास्ताँ ,, क्यों  यह  मुझसे  यु  कह  बैठा ...!!!...!!!!!
यह  केसा  तोल  मोल  है ,, इस  दुनिया  का ऐ खुदा ...!!!...!!!
जिस  कोख  में  पाला  पोसा ,, उससे  है  वो  जुदा  जुदा ...!!!...!!!!!

दूर  देश  में  रहता  है  वो...!!!...!!!
कोई  उस  तक ,, यह  पंहुचा  दे ...!!!...!!!!!
रातों  की  लोरी ,, बेसन  के  लड्डू ...!!!...!!!
मेरे  हाथ  के बने ,, पंहुचा  दे ...!!!...!!!!!

सिसक  सिसक  कर  ,, उन  हाथो  ने...!!!...!!!
हाथ  मेरा  जब  छोड़ा ...!!!...!!!!!
इस  दुनिया  के  मोह  से  मैंने ...!!!...!!!
अपना  मुह  फिर  मोड़ा ...!!!...!!!!! 

"माता पिता भगवान का रूप है...!!!...!!!
उन्हें खुद से दूर मत करो...!!!...!!!!!
तुम्हारा बचपन उनके सहारे पनपा है...!!!...!!!
अब तुम उनका सहारा बनो...!!!...!!!!!"

MAA

Mamta ki murat hai ,, pyari si surat hai...!!!...!!!
Tere kadmo me zindgi ,, kitni khubsurat hai...!!!...!!!!!

Tune chalna sikhaya ,, jeena sikhaya...!!!...!!!
Har maud par ,, khud ko parakhna sikhaya...!!!...!!!
Tune sukh bhi dikhaya ,, dukh bhi chakhaya...!!!...!!!
Har pal ,, har ghadi me ,, hansna sikhaya...!!!...!!!!!

Jo khud se bichdu ,, to tu tham  leti hai...!!!...!!!
Dua me hamesha ,, mera naam leti hai...!!!...!!!
Tune khud ko hai khoya...!!! ,, mujhko hai paya...!!!...!!!
Ek matti ki murat ko ,, insan banaya...!!!...!!!!!

Na tuzsa hai koi ,, duja jahan me...!!!...!!!
Jo tuzko hai paya ,, wo naseebo se paya...!!!...!!!
Ho andhra - ujala raho me jitna...!!!...!!!
Tera sath ho to ,, khuda mene paya...!!!...!!!!!

Tu khud ko thakakar ,, hamko banati hai...!!!...!!!
Tere sajde me MA ,, meri ankhe jhuk jati hai...!!!...!!!
Tu sakhi saheli ,, ek shakti kahlati hai...!!!...!!!
Tuzsi mamta ,, zindgi naseebo se pati hai...!!!...!!! :)



Nari


Me hu shakti me hu bhakti...!!!...!!!
Mujhsa koi roop kaha...!!!...!!!
Mujhse mamta mujhse shamta...!!!...!!!
Jaha me waha dhoop kaha...!!!...!!!

Ek rakshak ek sakhi hu me...!!!...!!!
Ek shikshak na thaki hu me...!!!...!!!
Mene janma mene saha hai...!!!...!!!
Is duniya me prem jahan hai...!!!...!!!

Mere hi anchal me samai...!!!...!!!
Is dharti ki sachai ...!!!...!!!
Mujhse hi sabne apnai...!!!...!!!
Adab ada ki achai...!!!...!!!

Jujh jujh kar safal hui hai...!!!...!!!
Is dharti par NARI...!!!...!!!
Itni sundar sabse sabal hai...!!!...!!!
Duniya jiski balihari...!!!


Save me...!!!...!!! papa mumma

Teri sadgi tera aaina hai ,, tune jana nahi...!!!...!!!  
Teri masum hansi ,, sare aam farmana nahi...!!!...!!!
Katil si ada bhi maat kha jae...!!!...!!!
Tu mud kar kabhi ,, sharmana sahi...!!!...!!!

Jis najakat se tarashi hai teri murat...!!!...!!!
Us khuda se mushkil mil pana nahi...!!!...!!!
Bas tere hi kadmo me jahan nazar ata hai...!!!...!!!
Teri ankho se jahar pee jana sahi...!!!...!!!

Har ada me kasak,, har nazar me nasha...!!!...!!!
Tu hakikat hai jalim ,, yeh bhul jana nahi...!!!...!!!
Teri bholi si surat aur pyari si boli...!!!...!!!
Aagar nasha hai to galib ,, chad jana sahi...!!!...!!!

Hai sapno ki nagari me nanhi pari...!!!...!!!           
In sapno se tu kho jana nahi...!!!...!!!
Band ankho se dedar to hota hai...!!!...!!!
Hakikat me bhi tu aajana sahi...!!!...!!!